Breaking News
Home / Devotional / मकर सक्रांति भरतीयों का महत्वपूर्ण पर्व

मकर सक्रांति भरतीयों का महत्वपूर्ण पर्व

Hits: 54

 

भारतीयों का प्रमुख पर्व मकर संक्रांति अलग-अलग राज्यों, शहरों और गांवों में वहां की परंपराओं के अनुसार मनाया जाता है। इसी दिन से अलग-अलग राज्यों में गंगा नदी के किनारे माघ मेला या गंगा स्नान का आयोजन किया जाता है। कुंभ के पहले स्नान की शुरुआत भी इसी दिन से होती है।

मकर संक्रांति क्या है?

सूर्य के एक राशि से दूसरी राशि में जाने को ही संक्रांति कहते हैं। एक संक्रांति से दूसरी संक्रांति के बीच का समय ही सौर मास है।वैसे तो सूर्य संक्रांति १३ हैं, लेकिन इनमें से चार संक्रांति महत्वपूर्ण हैं जिनमें मेष, कर्क, तुला, मकर संक्रांति हैं। मकर संक्रांति के शुभ मुहूर्त में स्नान, दान और पुण्य के शुभ समय का विशेष महत्व है।

मकर संक्रांति के पावन पर्व पर गुड़ और तिल लगाकर नर्मदा में स्नान करना लाभदायी होता है। इसके बाद दान संक्रांति में गुड़, तेल, कंबल, फल, छाता आदि दान करने से लाभ मिलता है और पुण्यफल की प्राप्ति होती है ।१४ जनवरी ऐसा दिन है, जब धरती पर अच्छे दिन की शुरुआत होती है। ऐसा इसलिए कि सूर्य दक्षिण के बजाय अब उत्तर को गमन करने लग जाता है। जब तक सूर्य पूर्व से दक्षिण की ओर गमन करता है तब तक उसकी किरणों का असर खराब माना गया है, लेकिन जब वह पूर्व से उत्तर की ओर गमन करते लगता है तब उसकी किरणें सेहत और शांति को बढ़ाती हैं।

मकर संक्रांति त्योहार विभिन्न राज्यों में अलग-अलग नाम से मनाया जाता है।

*उत्तर प्रदेश :* ♦
मकर संक्रांति को खिचड़ी पर्व कहा जाता है. सूर्य की पूजा की जाती है. चावल और दाल की खिचड़ी खाई और दान की जाती है।

*गुजरात और राजस्थान :*♦
उत्तरायण पर्व के रूप में मनाया जाता है. पतंग उत्सव का आयोजन किया जाता है

*आंध्रप्रदेश :* ♦
संक्रांति के नाम से तीन दिन का पर्व मनाया जाता है।

*तमिलनाडु :* ♦
किसानों का ये प्रमुख पर्व पोंगल के नाम से मनाया जाता है. घी में दाल-चावल की खिचड़ी पकाई और खिलाई जाती है।

*महाराष्ट्र :* ♦
लोग गजक और तिल के लड्डू खाते हैं और एक दूसरे को भेंट देकर शुभकामनाएं देते हैं।

*पश्चिम बंगाल :*♦
हुगली नदी पर गंगा सागर मेले का आयोजन किया जाता है।

*असम :*♦
भोगली बिहू के नाम से इस पर्व को मनाया जाता है।

*पंजाब :* ♦🔥
एक दिन पूर्व लोहड़ी पर्व के रूप में मनाया जाता है. धूमधाम के साथ समारोहों का आयोजन किया जाता है।

Check Also

बिदुपुर में चल रहे सामुदायिक किचेन का आर्थिक दृष्टि से कमजोर श्रमिक ले रहे लाभ

Hits: 0बिदुपुर। गरीब और लाचार व्यक्तियों के लिए मुख्यमंत्री द्वारा सामुदायिक कीचेन खोलने के निर्देश …

संस्कार सेवा सदन एवं ट्रामा सेंटर अस्पताल जंदाहा को किया गया सील

Hits: 0जिला प्रशासन के निर्देश पर स्थानीय प्रशासन ने जंदाहा बाजार के समस्तीपुर रोड में …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: