Breaking News
Home / National / Bihar / वार्ड कार्यान्वयन एवं प्रबंधन समिति के खाता खुलने से दो साल पहले के चेक पर विजया बैंक की खोपी शाखा से चार लाख रुपए निकासी

वार्ड कार्यान्वयन एवं प्रबंधन समिति के खाता खुलने से दो साल पहले के चेक पर विजया बैंक की खोपी शाखा से चार लाख रुपए निकासी

Hits: 46

नितेश कुमार चौधरी, जन्दाहा। जन्दाहा प्रखंड के खोपी पंचायत वार्ड संख्या 08 में वार्ड कार्यान्वयन एवं प्रबंधन समिति के खाता खुलने से दो साल पहले के चेक पर विजया बैंक की खोपी शाखा से चार लाख रुपए निकासी हो जाने का मामला प्रकाश में आया है। सोशल मीडिया में मामला सामने आते ही बैंक प्रबंधक,मुखिया के सहयोगी और पंचायत सचिव में हलचल पैदा हो गया है।

इस संबंध वार्ड सदस्या हीरा देवी, पति-रविन्द्र सिंह ग्राम खोपी ने बताया कि मुखिया और पंचायत सचिव द्वारा फोन कर मुझे और वार्ड सचिव रंजन पासवान को गुरू चौक स्थित नीजी कार्यालय पर बुलाकर कई कागजों पर खाता खोलने के नाम पर दस्तखत कराया। पुनः दूसरे दिन बुलाकर चेक पर हस्ताक्षर करा लिया गया। जब मैने अपने पति से पूछने की बात कही तो कहा गया कि बात हो गई है, आप विश्वास कर दस्तखत कीजिए।

पंचायत सचिव द्वारा भरे गए चेक पर मैं हस्ताक्षर कर दी। घर लौट कर मैने अपने पति से बताई। वो हम पर नाराजगी ज़ाहिर करते हूए बेटा के साथ उनलोगों के पास भेजे ।जहाँ भरे गए चेक का फोटो स्टेट करा कर सांत्वना के लिए दिया गया। कल होकर अपने बेटे के साथ बैंक जाकर मैनेजर साहब से गलत चेक होने की जानकारी देते हुए राशी भुगतान नहीं करने की आग्रह की। वे छायाप्रति देखकर सुधार करने के लिए बोलने लगे। मैं उन्हें पैसा पर रोक लगाने का ही आग्रह की, तो बोले ठीक है जाइये नहीं होगा। कुछ दिन बाद मुझे जानकारी मिली की पैसा की निकासी हो गई है। जिसकी शिकायत वरीय पदाधिकारी से की गई है।

वार्ड सदस्या ने बताया की ये ठेकेदार मुखिया के खास लोगों में है। जिसके चलते संबंधित लोग बैंक की भागीदारी से उक्त राशि का गवन करने में लगे हैं। अभी तक वार्ड कार्यान्वयन एवं प्रबंधन समिति के द्वारा ठेकेदारों का चयन भी नहीं किया गया है, तो फिर चेक कटवा कर राशि की निकासी करा लिया गया।

इस संबंध मुखिया उपस्थित नहीं रहने के पक्ष नहीं मालूम हो पाया ।पंचायत सचिव दिलीप कुमार साह ने कहा कि मैं केवल चेक भर दिया था और जो भी आरोप हैं वो बेबुनियाद है। शाखा प्रबंधक बिट्टु कुमार ने कहा कि जो गलती थी, उसे सुधार करा लिया गया है और अन्य आरोप गलत है। जब उनसे सुधार की बाबत दबाव देने के संबंध में पूछा गया तो कहा मैं क्यूँ, ये तो मुखिया जी जानेंगे। कार्यालय छुट्टी होने के कारण वरीय पदाधिकारी नहीं मिले।

इस तरह की शिकायतें आकसर पचायत से आती रहती हैं कि मुखिया और सचिव द्वारा ब्लैक चेक पर हस्ताक्षर करा लिया गया,फिर भी पदाधिकारी मौन रहते, जो कहीं न कहिं योजना की निष्पक्षता पर सवाल खङा करता है

Check Also

लोजपा प्रत्याशी संजय सिंह ने चलाया जनसंपर्क अभियान

Hits: 0महुआ । महुआ विधानसभा क्षेत्र के लोजपा प्रत्याशी संजय सिंह ने महुआ प्रखंड के …

चोरी की बढ़ते घटना से लोगों में दहशत

Hits: 0महुआ । महुआ थाना क्षेत्र के मंगुराही पंचायत के मंगुराही गांव में गुरुवार की …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: