Breaking News
Home / National / Bihar / विद्यालय प्रशासन ने ली बच्चे की जान

विद्यालय प्रशासन ने ली बच्चे की जान

Hits: 20

नितेश कुमार, जन्दाहा। संतान के संताप में डुबे मलकौली गांव के लोगों के आँखों से टपकती आँसू शासन-प्रशासन के साथ-साथ विद्यालय प्रबंधन को कोसती नजर आ रही है । छह वर्षीय शुभम की मौत से इलाके में कोहराम मच गया है।चारो तरफ क्रंदन का स्वर गुंजायमान होकर ग्रामीणों को बदहवास सा कर दिया ,तो हर किसी का जुबान केवल भगवान को कोस-कोसकर चित्कारों में परिणत हो रहा है।”ये क्या कर दिया तुने, आखिर किस जुर्म का सजा दिया रे भगवान ,तुम मुझे क्यों नहीं मार दिया, जो इस मासूम की जिंदगी हर ली कौन होगा धीरज के बुढापे का सहारा, कौन लगायेगा मेरे अर्थी को कंधे “यही कह-कह कर वो आँसुओं के प्रवाह को नहीं रोक पाते ।इनकी चित्कारों ने राह चल रहे राहगीरों को भी रोने पर विवश कर देता ।  ये हालत है जन्दाहा थाने के मलकौली गांव के ग्रामीणों का ।

दरअसल धीरज सिंह के छह वर्षीय इकलौते  संतान शुभम का स्कूल जाने के दौरान स्कूल गाङी का चक्का माथे पर चढ जाने के कारण घटनास्थल पर ही मौत हो गई ।शुभभ धीरज सिंह और माता सोनी देवी के बुढापे का एकमात्र सहारा था । धीरज और सोनी मेहनत मजदूरी कर संतान को इस उम्मीद से पढने के लिए न्यू मॉडर्न पब्लिक स्कूल नरहरपुर लक्ष्मण पुर में नामांकन कराया था कि इकलौता संतान बचपन से ही आधुनिक शिक्षा प्राप्त करेगा और पढ लिखकर बुढापे का सहारा बनेगा ।लेकिन उनकी ये अरमान शासन-प्रशासन और विद्यालय प्रबंधन की भेंट चढ गई ।

शुभम न्यू मॉडर्न पब्लिक स्कूल नरहरपुर-लक्ष्मणपुर के नर्सरी का छात्र था ।वो अपनी माँ और उसी विद्यालय की शिक्षिका सोनी देवी के साथ विद्यालय के गाङी पर सवार हो रहा था कि गाङी आगे बढ गई ।जिससे टकरा कर शुभम गाङी के चक्के के बीच में आ गया और गाङी का चक्का उसके माथे से होकर गुजार गया।माँ और छात्रों की चीख पर ग्रामीण दौर कर आये तथा उसे निकालने का प्रयास किया, लेकिन तबतक उसकी मौत हो चुकि थी ।अपनी नजरों के सामने दिल के टुकड़ा को दम तोङता देखकर सोनी चित्कार उठी ।उसकि वेदना ने ग्रामीणों को हीला कर रख दिया ।जिससे आक्रोशित होकर वो स्कूल गाङी में मौके पर ही आग लगा दी ।जिससे गाङी घू-धू कर जलने लगा ।हलांकि घटना घटित होते ड्राइवर फरार होने में सफल रहा । स्कूल की गाङी जीप थी,जो काफी पूराना और जर्जर हालत में था ।हलांकि कि कुछ लोगों ने शिवम को आगे के सीट पर बैठे होने की बात बताई है, जबकि माँ बीच वाले सीट पर बैठी थी ।घटना की सूचना पर थानाध्यक्ष सुनील कुमार सिंह और अंचलाधिकारी योगेंद्र सिंह दलबल के साथ पहुँकर समझानेबुझाने में लगे रहे । वो कारवाई का भरोसा दे रहे थे लेकिन ग्रामीण डीएम को बुलाने की मांग पर अडिग थे ।किसी तरह चार घंटे की मसक्कत के बाद परिवारिक लाभ योजना के बीस हजार रुपये का चेक और पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद सङक दुर्घटना में मिली वाले चार लाख रुपये देने के अस्वासन मिलने पर ग्रामीण माने और शिवम के शव को पोस्टमार्टम के लिए हाजीपुर जाने दिया ।घटना करीब आठ  बजे सुबह की बताई जाती हैं ।हलांकि अभी पीङित परिजन की ओर से कारवाई के लिए पुलिस को नहीं दिया गया है।प्राप्त जानकारी के अनुसार पीङित परिजन और विद्यालय प्रबंधन के बीच सुलह-समझते की कवायद जारी है,जिसके चलते ही पुलिस को आवेदन नहीं दिया गया है ।

कुकुरमुत्ते की तरह खुले नीजि विद्यालयों द्वारा छात्रों के जिंदगी से खिलवाड़ करने का मुद्दा गर्माने की संभावना बन रही हैं ।ग्रामीणों मुन्ना, दीपक, राकेश और प्रदीप के मुताबिक आखिर जब पंद्रह वर्षों तक ही गाङीयों को सङकों पर चलाया जा सकता है, तो फिर ये नीजि विद्यालय द्वारा  किस तरह चालीस वर्ष पूरानी गाङी पर छात्रों को लाने और लेजाने के लिए इस्तेमाल किया जाता हैं ? उसने सवाल किया कि आखिर राज्य में विद्यालय खोलने का कोई मानक भी है या नहीं । क्या ये विद्यालय इसका पालन करते हैं ? इसे देखने और सुनने वाले कोई नहीं है, जो हमारे बच्चों को अनहोनी घटना का शिकार होना पङता,जिससे माता-पिता का अरमान ही नहीं, बल्कि वो परिवार ही समाप्त हो जाता ।अब कौन देगा इसे जीवन का इकलौता सहारा, क्या ये विद्यालय, शिक्षा विभाग, प्रशासन या फिर शासन, नहीं कोई नहीं दे सकता ।इसलिए सरकार उचित कारवाई करें, अन्यथा हम आंदोलन करने को विवश होंगे ।

अंचलाधिकारी योगेंद्र सिंह ने परिवारिक लाभ योजना के तहत परिजन को बीस हजार रुपये की चेक देने की बात बताते हुए कहा कि वाकई कुकुरमुत्ते की तरह जगह-जगह खुली नीजि स्कूल सुरक्षा के लिए काफी चिंतनीय है । बेगैर रजिस्ट्रेशन और मानक के पूर्ण किये स्कूल चल रहें है । जिसपर सख्त कारवाई  की आवश्यकता है, जो मेरे द्वारा सप्ताहिक रूटीन बनाकर सतत रूप से किया जायेगा ।

Check Also

गंडक तटबंध पर बचे कार्य के लिए व्यक्त की नाराज़गी

Hits: 0वैशाली।  जिलाधिकारी वैशाली श्रीमती उदिता सिंह ने अपर समाहर्ता , BDO वैशाली, CO हाजीपुर …

सहदेई बुजुर्ग बाजार स्थित सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की शाखा के बाहर कोरोना गाइडलाइन की जमकर उड़ी धज्जियां

Hits: 0सहदेई बुजुर्ग – लॉकडाउन के दूसरे दिन सहदेई बुजुर्ग प्रखंड में एक और जहां …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: