Breaking News
Home / Breaking News / नीतू नवगीत के लोक गीतों से फैली बिहार की खुशबू

नीतू नवगीत के लोक गीतों से फैली बिहार की खुशबू

Hits: 27

उमेश कुमार विप्लवी, फैजाबाद। राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के प्रांगण में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार के बाद विश्वविद्यालय के विवेकानंद प्रेक्षागृह में लोक संस्कृति से ओतप्रोत सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें विभिन्न राज्यों के अलग-अलग रंग देखने को मिले ।

लोकगीत नृत्य और नाटिका की ऐसी त्रिवेणी प्रवाहित हुई जिसमें सभी वैज्ञानिक, शिक्षक और अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी में भाग लेने आए आमंत्रित अतिथि घंटों झूमते रहे । नारी सशक्तिकरण पर आधारित आज की द्रौपदी नृत्य नाटिका को सभी ने खूब सराहा । लोकरंग के तहत बिहार की प्रसिद्ध लोक गायिका डॉ नीतू कुमारी नवगीत ने अनेक पारंपरिक और भक्ति गीतों की प्रस्तुति करके उपस्थित लोगों का मन मोहा ।

अपनी पहली प्रस्तुति में डॉ नीतू कुमारी नवगीत ने जनकपुर की पुष्प वाटिका में राम और सीता की पहली मुलाकात के प्रसंग का वर्णन करते हुए गाया देखकर रामजी को जनक नंदिनी बाग में बस खड़ी की खड़ी रह गई राम देखे सिया को सिया राम को चारो अखिया लड़ी की लड़ी रह गई । इसके बाद उन्होंने पटना से पाजेब बलम जी आरा से होठलाली मंगाई दा छपरा से चुनरिया छींट वाली, फर गइले नेमुआ परदेसिया बलमुआ जी ना अइले, लाली चुनरिया शोभे हो शोभे लाली टिकुलिया, मैया के शुभ लाले रंगवा हो, पिया मेहंदी मंगा द मोती झील से जाके साइकिल से ना यही थईया टिकुली हेरा गइले दइया रे और डर लागइ छी हमरा डर लागे छी जैसे बिहार के पारंपरिक गीतों की प्रस्तुति दी । पूरे देश में बेटियों की मान मर्यादा की रक्षा और स्वाबलंबन हेतु उचित शिक्षा पर जोर देते हुए उन्होंने या रब हमारे देश में बिटिया कमान हो जेहन में बेटों जितना ही बिटिया की शान हो गीत प्रस्तुत करके सब को भावविह्वल किया ।

डॉ नीतू कुमारी नवगीत के साथ वादक कलाकारों में मनोज कुमार सुमन ने नाल पर, सुजीत कुमार ने कैसियो पर, राकेश कुमार ने हारमोनियम पर, रविंद्र कुमार ने बैंजो पर और आशीष ओम तिवारी ने पेड़ पर संगत दिया । नीतू नवगीत की पूरी टीम की प्रस्तुति को अवध वासियों ने काफी पसंद किया । कार्यक्रम के बाद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो मनोज दीक्षित तथा मुख्य अतिथि प्रो PK चंद्रशेखर ने कलाकारों को सम्मानित भी किया ।

कार्यक्रम से पहले नीतू कुमारी नवगीत ने बताया कि स्त्री शिक्षा और महिला सशक्तिकरण से संबंधित गीतों की रचना वह स्वयं करती हैं और जन चेतना की खातिर उन्हें गाती है । लोकगीतों के माध्यम से समरस समाज की स्थापना और नारियों को उचित सम्मान दिलाना उनका लक्ष्य है ।

उनके एल्बम बिटिया है अनमोल रतन के सभी गीत बाल विवाह दहेज प्रथा और भ्रूण हत्या जैसी सामाजिक कुप्रथाओं के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाले हैं, वही स्वच्छता से सम्मान नामक एल्बम में उन्होंने लोगों को साफ सफाई के महत्व के बारे में बताते हुए उनसे श्रमदान की अपील की है । दूरदर्शन और आकाशवाणी की नियमित कलाकार डॉ नीतू कुमारी नवगीत के दूसरे एल्बमों में छठ गीतों पर आधारित बहंगी लचकत जाए, पावन लागे लाली चुनरिया, गांधी गान और मोरी बाली उमरिया शामिल है।

Check Also

युवा जदयू के नवनियुक्त जिला अध्यक्ष चंदन कुमार सिंह का कार्यकर्ताओं ने किया स्वागत

Hits: 0 महनार – युवा जदयू के नवनियुक्त जिला अध्यक्ष चंदन कुमार सिंह का अपने …

भाजपा के बछवाड़ा विधायक को नहीं है सोशल डिस्टेंस का ख्याल, बिना मास्क पहने हीं पहुंच गए कार्यक्रम में

Hits: 0राकेश यादव, बछवाड़ा (बेगूसराय)। समूचे देश में कोरोना कहर बरपा रही है और सरकार …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: