Breaking News
Home / National / Bihar / Begusarai / पता पूछ कर इलाज किया जाता है अस्पताल में

पता पूछ कर इलाज किया जाता है अस्पताल में

Hits: 92

अभिषेक राय, तेघड़ा।  तेघङा उपस्वास्थ्य केन्द्र एक ऐसा अस्पताल है जहां पता पूछ कर इलाज किया जाता है। अस्पताल में जी हां आगर अपका घर तेघड़ा प्रखंड नहीं है तो अपको तेघड़ा प्राथमिक उपस्वास्थ्य केन्द्र में इलाज नहीं होगा आपको बिना इलाज के ही लौटना पड़ेगा।

कई बार ऐसा हुआ है कि अनुमंडल  के विभिन्न क्षेत्र के मरीज को एन्ट्री रेविज का सुई बछवाड़ा, भगवानपुर ,मंसूरचक के अस्पताल  में उपलब्ध नहीं होने पर मरीज आपने परिजनों के साथ तेघड़ा ये आस लगाकर आते हैं कि जा रहे हैं अनुमंडल और वहां के अस्पताल में दवा मिल जायेगा लेकिन उलटा हुआ अस्पताल में ये कहकर लौटा दिया गया कि यहां सुई है लेकिन आपको नहीं मिलेगा क्योंकि आपका अस्पताल बछवाड़ा है ,मंसूरचक है,या भगवानपुर है। यही हाल दो दिन पूर्व तेघड़ा अनुमंडल के प्राथमिक उप स्वास्थ्य केन्द्र में उस वक्त हुआ जब एक परिजन दस वर्षीय बच्चे  के इलाज हेतु घंटो भटकते रहे और चिकितसकों ने इलाज से किया साफ इंकार। गुरूवार को नगर पंचायत के वार्ड संख्या आठ से कुत्ता काटने से घायल बच्चे  को लेकर उसके परिजन पीएचसी पहुचे। परचा कटवाकर डॉक्टर के पास पहुंचे। मगर चिकत्स्कों ने घायल का परिचय पूछा।

परिजनों ने उसका पता बछवाड़ा  प्रखंड के मनसेरपुर निवासी लिखाया. पता सुनकर ही घायल बच्चे  का इलाज का काम रोक दिया गया. मगर तब तक टिटनेस की एक सुई मरीज को दी जा चुकी थी. इलाज रुकने पर परिजनों ने कारण पूछा तो बताया की ये यहां का नहीं  है. इसलिए इसको इलाज हेतु बछवाड़ा  पीएचसी में भर्ती कराये. इसके बाद परिजन घंटो अपने बच्चे को बांहो में उठाये इधर से उधर दौडते रहे. मगर किसी ने उसका प्राथमिक उपचार तक नहीं किया.

बच्चे को कुत्ते  ने उसके छाती में काटकर गंम्भीर रूप से घायल कर दिया था निराश होकर परिजन उसे बजार के स्थानीय क्लिनिक में भर्ती कराया. वहां उसका इलाज सम्पन्न हुआ. घायल के परिजन ने बताया की उक्त बच्चा  बछबाड़ा थाना क्षेत्र के मनसेरपुर निवासी लोहा राय का पुत्र हरिओम कुमार है. वह घूमने के लिए तेघड़ा नगर पंचायत के  वार्ड आठ के भगवती स्थान  निवासी अपनी रिश्ते के मौसी के यहां आया हुआ था. गुरूवार को भगवती स्थान में खेलने के दौरान पागल कुत्ते ने काट लिया. मौसी मौसा उसे लेकर इलाज हेतु प्राथमिक उप स्वास्थ्य केन्द्र तेघड़ा  पहुंचे थे. चिकित्सको की कहानी सुनकर लोग दंग रह गए.

इस संबंध में वार्ड पार्षद महबूब आलम ने बताया है कि अस्पताल में किसी भी प्रकार का सुविधा नहीं है. अगर सड़क दुर्घटना में कोई मरीज आता है तो तुरंत उसे रेफर ही कर दिया जाता है. तेघड़ा में इलाज की कोई व्यवस्था नहीं है. अधिवक्ता सुरेन्द्र कुमार महतो ने बताया है कि तेघड़ा अनुमंडल का अस्पताल है यहाँ किसी का भी तुरंत इलाज होना चाहिए ना कि पता पूंछ कर इलाज किया जाना चाहिए.

इस संबंध में अनुमंडल पदाधिकारी डॉ निशांत ने बताया है कि अनुमंडल क्षेत्र के कोई भी व्यक्ति या क्षेत्र के बाहर का भी व्यक्ति अस्पताल में इलाज करवा सकता है. जनता के सुविधा के लिये ही अस्पताल बना है ।उन्होंने बताया है कि इस तरह की बात अगर होगी तो कारवाई किया जायेगा.

Check Also

युवा जदयू के नवनियुक्त जिला अध्यक्ष चंदन कुमार सिंह का कार्यकर्ताओं ने किया स्वागत

Hits: 0 महनार – युवा जदयू के नवनियुक्त जिला अध्यक्ष चंदन कुमार सिंह का अपने …

भाजपा के बछवाड़ा विधायक को नहीं है सोशल डिस्टेंस का ख्याल, बिना मास्क पहने हीं पहुंच गए कार्यक्रम में

Hits: 0राकेश यादव, बछवाड़ा (बेगूसराय)। समूचे देश में कोरोना कहर बरपा रही है और सरकार …

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: