Breaking News
Home / National / जोश और खरोस से चल रही महापर्व की महातैयारी

जोश और खरोस से चल रही महापर्व की महातैयारी

Hits: 4

रिपोर्ट:नितेश चौधरी।आस्था के महासमर मेंं दूर-दूर से घर पर आकर आस्थावान पर्व की गरीमा को गौरवान्वित कर रहे हैं। हर कोई अपनी क्षमताओं के मुताबिक पीछे नहीं छूटने के प्रयास में लगें हैं ।
इन्हीं बीच सरकार भी अपनी जिम्मेवारीयों के निर्वाहन मेंं लगी है ।

सभी प्रशासनिक अधिकारियों की फोटो मिडिया से लेकर सोशल साइट्स पर भरपूर मात्रा में देखने को मिल रहा है ।इन्हीं फोटो की उत्सुकताओ ने मुझे भी जन्दाहा जैसे देहाती परिक्षेत्र और पूरे बिहार का इकलौता प्रखंड के परिभ्रमण करने का मौका उपलब्ध कराया । बिहार की इकलौते प्रखंड का दर्जा देने पर आपके मनमस्तिष्क मेंं हलचल आ गया होगा ।

मित्रों कागजी उपलब्धियों के अलावे “जन्दाहा” एक साल मेंं पच्चीस-पच्चीस मासूमों की जिंदगी लेने वाले प्रखंडों मेंं प्रथम स्थान प्राप्त करने वाला प्रखंड हैं ।वो भी मौतें बेगैर कोई प्राकृतिक आपदा के डुबने से ।

लेकिन अफसोस है कि जन्दाहा के इन मासूमों की जिंदगी जाने से यहाँ के प्रशासनिक पदाधिकारियों को कोई फर्क नहीं ।सरकारी राशि के करोड़ों नुकसान होने की कोई चिंता नहीं है ।सच कहूँ तो लापरवाह प्रशासन, बेमिसाल प्रशासन की कहानियां हजरत जन्दाहा की धरती दीमक की तरह चाट रही हैं ।

थानाध्यक्ष को छोङ दिया जाये तो किसी पदाधिकारियों डुबकर मरने वाले प्रखंड में सुमार जन्दाहा क्षेत्र के घाटों का जायजा लेना भी मुनासिब नहीं समझा ।कहीं घाटों की बैरीकेटिंग ,सुरक्षा, जागरूकता, साफसफाई या अन्य कोई व्यवस्था प्रशासनिक स्तर से नहीं की गई ? हाँ एक चीज जो दिये सबकुछ, पर मिला कुछ नहीं आवश्य हुआ है ।कागज पर मजिस्ट्रेट और अन्य कर्मीयों की सूचि आवश्य तैयार हो गई है ,ताकि “गाल के आगे दाल” नहीं गलने दे ।

क्या प्रशासन बताने मेंं सक्षम हैं कि कहाँ-कहाँ साफसफाई, विलीचींग पाऊडर, या सुरक्षा इंतजमात किये गए ? आखिर ये कराते ही क्यों ,इन्हें तो खुद गंदगी के अंम्बारों पर बैठकर स्वक्ष भारत का अलख जगाना है ?
हे हमारे विकास प्रहरी ,विकास की लूट भले कागज पर कर लो, लेकिन जन आस्था के महामंदिर मेंं कागज के घोड़े को आराम तो दे दो । मुझे ये कहने की नौवत इसलिये आ गई, क्योंकि जगह-जगह से मासुमों के डुबने की जानकारी चिंता दे रही हैं ।
धन्यवाद के पात्र है आस्था के पुजारी नौजवान ,जिन्होंने अपनी आर्थिक और शारीरक श्रमशक्ति के बदौलत प्रखंड की दुर्गंध को आस्थास्थल से भगा दिया है ।
आप सभी आस्थावान श्रद्धालुओं को महापर्व की हार्दिक शुभकामनाएं ।

Check Also

बिदुपुर में चल रहे सामुदायिक किचेन का आर्थिक दृष्टि से कमजोर श्रमिक ले रहे लाभ

Hits: 0बिदुपुर। गरीब और लाचार व्यक्तियों के लिए मुख्यमंत्री द्वारा सामुदायिक कीचेन खोलने के निर्देश …

संस्कार सेवा सदन एवं ट्रामा सेंटर अस्पताल जंदाहा को किया गया सील

Hits: 0जिला प्रशासन के निर्देश पर स्थानीय प्रशासन ने जंदाहा बाजार के समस्तीपुर रोड में …

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: